Breech Baby के जन्म के समय आ सकती हैं कई दिक्कतें, जानिए इनके बारे में | Breech Baby: Causes, Complications, and Turning in Hindi

Uncategorized

आमतौर पर ब्रीच बेबी गर्भ में तीन तरह के होते हैं- फ्रैंक, कंप्लीट और फुटलिंग ब्रीच। यह इस बात पर निर्भर करता है कि गर्भ में बच्चे की स्थिति क्या है। मसलन, अगर बच्चे के पैर क्रॉस होते हुए नीचे बर्थ कैनल के करीब होते हैं तो उसे फुटलिंग ब्रीच बेबी कहा जाता है। वहीं अगर बच्चे के पैर उपर की तरफ होते हैं और उसका बम्प बर्थ कैनल के करीब हो तो इसे फ्रैंक ब्रीच बेबी कहा जाता है।

साफतौर पर यह कह पाना संभव नहीं है कि ब्रीच गर्भधारण क्यों होता है, लेकिन अमेरिकी गर्भावस्था एसोसिएशन के अनुसार, कई अलग-अलग कारण हैं जिसके कारण एक बच्चा गर्भ में खुद को गलत तरीके से पोजिशन कर लेता है। जैसे-• अगर एक महिला को कई गर्भधारण हुए हों अगर किसी महिला का पूर्व में समय से पहले जन्म हुआ हो यदि गर्भाशय में बहुत अधिक या बहुत कम एमनियोटिक द्रव होता है, तो इसका अर्थ है कि शिशु के चारों ओर घूमने के लिए अतिरिक्त जगह है या फिर घूमने के लिए पर्याप्त

यदि महिला के पास असामान्य आकार का गर्भाशय है या अन्य कॉम्पलीकेशन हैं, जैसे कि गर्भाशय में फाइब्रॉएड। अगर एक महिला को प्लेसेंटा प्रीविया है लगभग 35 या 36 सप्ताह तक एक बच्चे को ब्रीच नहीं माना जाता है। सामान्य गर्भधारण में, आमतौर पर एक शिशु जन्म की तैयारी में स्थिति में आने के लिए सिर नीचे कर लेता है। 35 सप्ताह से पहले शिशुओं का सिर नीचे होना या बग़ल में होना सामान्य है। हालांकि, उसके बाद, जैसा कि बच्चा बड़ा हो जाता है, उसका मुड़ना और सही स्थिति में लाना कठिन हो जाता है। आमतौर पर डॉक्टर ही एक अल्ट्रासाउंड की मदद से आपको इस बात की जानकारी दे सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *