फाल्गुन माह में इसे न खाएं, हो सकते हैं बीमार

Health

ऋतुराज बसंत और फाल्गुन माह आरंभ हो चुका है. इस माह में चने का सेवन भारतीय मनीषियों ने निषिद्ध बताया है. इसके सेवन से स्वास्थ्यगत परेशानियां उभर सकती हैं.

वर्ष के प्रत्येक माह में एक विशेष खाद्य पदार्थ की मनाही हमारे मनीषियों ने की है. माघ माह में मिश्री खाने को निषेध बताया गया. माघी पूर्णिमा के साथ माघ माह बीत गया है. फाल्गुन माह में चने को खाना निषेध बताया गया है. कहा गया है कि इसके सेवन से व्यक्ति बीमार तो पड़ ही सकता है, साथ ही कालग्रास भी बन सकता है.

फाल्गुन माह उत्साह उमंग के लिए जाना जाता है. चहुंओर वसंती रंग की बहार होती है. फूले से पेड़ पौधे लदे होते हैं. चना बूट भी बहुतायत में हरे और कच्चे उपलब्ध होते हैं. आयुर्वेेद में कच्चे पदार्थाें के सेवन पर अधिकांशतः रोक है. पका हुआ भोजन ही श्रेष्ठ बताया गया है. ऐसे में चने का सेवन खासकर कच्चे चने खाने पर रोक विद्वानों ने लगाई है. इसके साथ ही मौसम में बदलाव भी चने के सेवन को निषिद्ध बताता है.

फाल्गुन माह होली की पूर्णिमा तक है. होली की पूर्णिमा के दिन होली की पवित्र अग्नि में चने और गेहूं की बालियों को भूनकर खाना आरंभ किया जाता है. इससे पहले इन्हें नहीं खाया जाना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *